केंद्रीय वित्तमंत्री व भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली ने कांग्रेस पर सीधा हमला बोलते हुए आज कहा कि विपक्षी दल ने राजनीतिक लाभ लेने के लिए हिंदू आतंकवाद बोलकर मनगढ़ंत कहानी बनाई और पूरे हिंदू समाज को कलंकित करने का काम किया.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस को अपने इस कृत्य के लिए पूरे समाज से माफी मांगनी चाहिए. जेटली ने शुक्रवार को बीजेपी मुख्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट मामले में तत्कालीन संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) और कांग्रेस के पास कोई सबूत नहीं था.

लोकसभा चुनाव के जोर के बीच समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट केस में फैसले की कॉपी सार्वजनिक होने के बाद अब इस पर सियासत शुरू हो गई है. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि इस केस में आरोपियों के खिलाफ कोई सबूत नहीं था. सिर्फ हिंदू समाज को कलंकित किया गया. इसकी जिम्मेदार कांग्रेस और यूपीए है. कोई भी समाज इनको माफ नहीं करेगा. मासूमों की जान गई, लेकिन सही लोगों की जांच नहीं की गई.

बता दें, समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट केस में विशेष एनआईए अदालत के न्यायाधीश जगदीप सिंह ने अपने फैसले में कहा, 'मैं विश्वसनीय और स्वीकार्य सबूतों के अभाव में अधूरे रहने वाले इस हिंसा के रूप में किए गए एक नृशंस कृत्य के फैसले को गहरे दर्द और पीड़ा के साथ समाप्त कर रहा हूं.' अभियोजन पक्ष के साक्ष्यों में अभाव रहा. जिसके चलते आतंकवाद का एक कृत्य अनसुलझा रह गया.

मामला

18 फरवरी, 2007 को हरियाणा के पानीपत में भारत-पाकिस्तान के बीच चलने वाली समझौता एक्सप्रेस ट्रेन जब भारतीय सीमा के पास आखिरी स्टेशन यानी अमृतसर के अटारी स्टेशन के रास्ते में थी, तभी उसमें जोरदार ब्लास्ट हुआ था जिसमें 68 लोग मारे गए थे. एनआईए ने जुलाई 2011 में आठ लोगों के खिलाफ आतंकवादी हमले में उनकी कथित भूमिका के लिए आरोप पत्र दायर किया था.

उन आठ आरोपियों में से स्वामी असीमानंद, लोकेश शर्मा, कमल चौहान और राजिंदर चौधरी अदालत में पेश हुए और मुकदमे का सामना किया. बीते दिनों इन चारों आरोपियों को बरी कर दिया गया.

 

आज के वक्त में पूरी दुनिया इंस्टेंट मेसेजिंग ऐप Whatsapp का इस्तेमाल करती है और साथ ही अपने जरूरी और पर्सनल काम इस प्लेटफॉर्म पर करती है।कई बार ऐसा होता है कि कई लोग अपने चैट को पर्सनल रखना चाहते है और साथ ही किसी के साथ सांझा नहीं करते है।इसके लिए Whatsapp ने यूजर्स को चैट को सिक्यूर करने के लिए कई फीचर लॉन्च किए है, जिसमें end-to-end encryption शामिल हैअब व्हाट्सएप अपने यूजर्स की चैट को सुरक्षित रखने के लिए Fingerprint फीचर जल्द ही लॉन्च करने वाली है। आइए जानते है इसके बारे में....WhatsApp अब एंड्रॉयड स्मार्टफोन यूजर्स के लिए भी फिंगरप्रिंट ऑथेन्टिकेशन फीचर लाने की तैयारी कर रहा है. इससे पहले कंपनी ने iOS यूजर्स के लिए ये फीचर जारी कर दिया है.

WABetainfo की एक रिपोर्ट के मुताबिक WhatsApp ने बीटा वर्जन 2.19.83 में फिंगरप्रिंट ऑथेन्टिकेशन का फीचर दिया है. इस अपडेट के बाद यूजर्स अपने वॉट्सऐप को फिंगरप्रिंट स्कैनर से अनलॉक कर पाएंगे. हालांकि अभी भी ज्यादातर एंड्रॉयड स्मार्टफोन में ऐप लॉक करने का फीचर दिया जाता है जिसे फिंगरप्रिंट स्कैनर से अनलॉक किया जा सकता है और लोग इसे वॉट्सऐप के लिए भी यूज करते हैं एंड्रॉयड में दिए जाने वाले वॉट्सऐप के इस नए फीचर को यूजर्स प्राइवेसी टैब में जाकर एनेबल कर सकते हैं. यहां iOS जैसे ही ऑप्शन दिखेंगे, यानी आप ये सेट कर सकते हैं कि एक बार अनलॉक करने के बाद कितने समय तक आपको फिंगरप्रिंट की जरूरत नहीं होगी. इसमें एक मिनट, 10 मिनट और 30 मिनट तक का समय है.

iOS के लिए दिए गए बायोमैट्रिक ऑथेन्टिकेशन वाले वॉट्सऐप के फीचर में सिर्फ टच आईडी ही नहीं, बल्कि फेस अनलॉक का भी ऑप्शन दिया गया है. लेकिन ये साफ नहीं है कि एंड्रॉयड स्मार्टफोन में वॉट्सऐप को फेस से अनलॉक किया जा सकेगा या नहीं. क्योंकि अब ज्यादातर एंड्रॉयड स्मार्टफोन्स में फेस अनलॉक का फीचर मिलता है. हालांकि ये फीचर आईफोन के लेवल का सिक्योर नहीं होता.WhatsApp से ही जुड़ी दूसरी रिपोर्ट की बात करें तो कंपनी ने एंड्रॉयड के लिए डार्क मोड देना शुरू कर दिया है. ये अभी टेस्टिंग के तौर पर है, लेकिन सिर्फ सेटिंग्स में डार्क मोड दिया जा रहा है. उम्मीद है जल्द ही इसका पब्लिक बीटा जारी किया जाएगा और तब आप भी वॉट्सऐप का डार्क मोड यूज कर सकते हैं

 

अक्षय कुमार की फिल्म 'केसरी' kesari  बॉक्स ऑफिस पर लगातार कमाल कर रही है. फिल्म रिलीज के एक ही हफ्ते में 100 करोड़ के करीब पहुंच गई है. फिल्म ने रिलीज के पहले ही दिन से बॉक्स ऑफिस पर कमाल करना शुरू कर दिया था.  कुल 21.06 करोड़ की कमाई के साथ 'केसरी' साल की पहली सबसे बड़ी ओपनिंग करने वाली फिल्म बन गई थी.दूसरे दिन फिल्म kesari  की कमाई में थोड़ी गिरावट दर्ज की गई थी, लेकिन तीसरे और चौथे दिन फिल्म ने फिर रफतार पकड़ी और फिल्म ने पहले वीकेंड में 78.07 करोड़ की शानदार कमाई की. हालांकि, वर्किंग डेज होने के चलते सोमवार को फिल्म की कमाई में भारी गिरावट आई है.

इस फिल्म ने 2019 के चार बड़े रिकॉर्ड भी अपने नाम किया कर लिए हैं-

 

 

पहला रिकॉर्ड- पहले दिन 21.06 करोड़ की कमाई के मामले में ये फिल्म 2019 की सबसे बड़ी फिल्म होने का रिकॉर्ड अपने नाम कर चुकी है.

 

 

दूसरा रिकॉर्ड- इस फिल्म ने तीन दिनों में 50 करोड़ कमाई का आंकड़ा पार करने का रिकॉर्ड भी अपने नाम किया है. इस साल की रिलीज हुई कोई भी फिल्म तीन दिनों में इतना नहीं कमा पाई है.

 

 

तीसरा रिकॉर्ड- केसरी ने चार दिनों में 75 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है. 2019 के लिए ये भी नया रिकॉर्ड है.

 

 

चौथा रिकॉर्ड- इस फिल्म ने ओपेनिंग वीकेंड में सबसे ज्यादा कमाई का रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिया है. फिल्म गुरुवार को रिलीज हुई. चार दिनों के ओपेनिंग वीकेंड में केसरी ने 78.07 करोड़ कर चुकी है.

क्या है फिल्म की कहानी?

 

 

ये फिल्म वर्ष 1897 के ऐतिहासिक सारागढ़ी के युद्ध पर आधारित है. 'केसरी' को भारतीय इतिहास ही नहीं बल्कि दुनिया की सबसे बड़ी लड़ाई माना जाता है. इसमें सिख सैनिकों ने सारागढ़ी किला बचाने के लिए पठानों से अपनी आखिरी सांस तक लड़ाई लड़ी थी. इस युद्ध में 36 सिख रेजिमेंट के 21 जवानों ने 10 हजार अफगान सैनिकों को धूल चटा दी थी.

 

 

अक्षय कुमार की फिल्म 'केसरी' दर्शकों के दिलों पर राज कर रही है और फैंस इसकी तारीफ करते नहीं थक रहे. यदि आपने भी अभी तक फिल्म नहीं देखी है और देखने पर विचार कर रहे हैं तो हम आपको बता रहे हैं कि आखिर क्यों आपको इस फिल्म को बिल्कुल भी मिस नहीं करना चाहिए.

 

 

 

 

 

 

 

 

'केसरी' देखने से पहले जानिए सारागढ़ी युद्ध की असली कहानी, जब 10 हजार अफगानी सैनिकों से भिड़े थे 21 सिख

 

 

 

IPL 2019 में ईडेन गार्डन्स में खेले गए मैच में कोलकाता नाइट राइडर्स ने किंग्स इलेवन पंजाब को 28 रन से मात दे दी. इस मैच में एक प्लेयर पर सबका निगाहें टिकी हुई थीं. यह प्लेयर था किंग्स इलेवन पंजाब का गेंदबाज वरुण चक्रवर्ती. IPL 2019 का सबसे महंगा खिलाड़ी.

 

IPL 2019 के लिए सबसे महंगे बिके वरुण चक्रवर्ती के डेब्यू का पहला ओवर बेहद निराशाजनक रहा. किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान आर. अश्विन ने ईडन गार्डन्स पर दूसरे छोर से इस नए गेंदबाज से आक्रमण की शुरुआत कराई, लेकिन आगे जो भी हुआ उसे यह लेग स्पिनर कभी याद नहीं करना चाहेगा.

नीतीश राणा वरुण चक्रवर्ती के पहले शिकार

वरुण चक्रवर्ती ने हार नहीं मानी और जोरदार बल्लेबाजी कर रहे नीतीश राणा (63 रन, 34 गेंद, 7 छक्के, 2 चौके) को मयंक अग्रवाल के हाथों कैच करा दिया और आईपीएल का अपना पहला विकेट हासिल किया और इस ओवर में महज एक रन (0 0 W 0 0 1) खर्च कर अपना 'ड्रीम' विकेट निकाला. आखिरकार मैच में उनका गेंदबाजी विश्लेषण रहा- 3-0-35-1.

 

सुनील नरेन ने कर दिया बुरा हाल

दरअसल, उस एक ओवर में वरुण चक्रवर्ती ने 25 रन लुटाए. कोलकाता नाइट राइडर्स की ओर से पारी की शुरुआत करने आए सुनील नरेन ने वरुण चक्रवर्ती की पांच गेंदों पर 24 रन ठोक डाले, जिनमें उनके 3 छक्के शामिल रहे.

आईपीएल 2019 के लिए सबसे महंगे बिके वरुण चक्रवर्ती के डेब्यू का पहला ओवर बेहद निराशाजनक रहा. किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान आर. अश्विन ने ईडन गार्डन्स पर दूसरे छोर से इस नए गेंदबाज से आक्रमण की शुरुआत कराई, लेकिन आगे जो भी हुआ उसे यह लेग स्पिनर कभी याद नहीं करना चाहेगा.

सुनील नरेन ने कर दिया बुरा हाल-दरअसल, उस एक ओवर में वरुण चक्रवर्ती ने 25 रन लुटाए. कोलकाता नाइट राइडर्स की ओर से पारी की शुरुआत करने आए सुनील नरेन ने वरुण चक्रवर्ती की पांच गेंदों पर 24 रन ठोक डाले, जिनमें उनके 3 छक्के शामिल रहे.

TNPL में भी इतनी बेरहमी से नहीं पिटे थे-वरुण चक्रवर्ती अपने छोटे से क्रिकेट करियर में पहली बार इतनी बरहमी पिटे. तमिलनाडु प्रीमियर लीग (TNPL) में भी उनका ये हश्र नहीं हुआ था. इस लीग में उनकी सबसे महंगी गेंदबाजी 4 ओवर में 28 रन है. लेकिन उन्हें आईपीएल के एक ही ओवर में 25 रन देने पड़ गए.

अश्विन ने कायम रखा भरोसा-कप्तान अश्विन ने वरुण चक्रवर्ती पर अपना विश्वास बनाए रखा. उन्हें दोबारा 7वें ओवर में लाया गया. उनके उस ओवर में 2 चौके समेत 9 रन बने. उन्हें फिर आक्रमण से हटाया गया. इसके बाद उन्हें एक और मौका मिला. 15वें ओवर में तो उन्होंने कमाल कर दिखाया.

 

2019 के लिए नीलामी में उनादकट के साथ सबसे महंगे

27 साल के तमिलनाडु के लेग स्पिनर वरुण चक्रवर्ती ने आईपीएल 2019 के लिए नीलामी में धूम मचा दी थी, जब इस 'मिस्ट्री स्पिनर' पर मोटी बोली लगी. उन्हें किंग्स इलेवन पंजाब ने 8.40 करोड़ रुपये में खरीदा. उनका बेस प्राइस महज 20 लाख रुपये था. उधर, तेज गेंदबाज जयदेव उनादकट पर भी 8.40 करोड़ रुपये की बोली लगी थी, जिन पर राजस्थान रॉयल्स ने दांव खेला.

वरुण चक्रवर्ती ने तमिलनाडु की तरफ से अब तक एक ही फर्स्ट क्लास मैच खेला है. इसी साल नवंबर में हैदराबाद के खिलाफ पहले मैच में उन्हें एक ही सफलता मिली. इसके अलावा उन्होंने लिस्ट-ए (घरेलू वनडे) के 9 मैच खेले हैं. जिसमें उन्होंने 22 विकेट निकाले हैं.

वरुण चक्रवर्ती ने 13 साल की उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू किया, और 17 की उम्र तक विकेटकीपर-बल्लेबाज रहे. एज ग्रुप क्रिकेट में कई बार खारिज कर दिए गए. बाद में उन्होंने खेलना ही छोड़ दिया और चेन्नई में एसआरएम विश्वविद्यालय से वास्तुकला (Architecture) में डिग्री हासिल की.

पांच साल का पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद वरुण ने एक फ्रीलांस आर्किटेक्ट के रूप में काम शुरू किया. लेकिन उन पर टेनिस बॉल क्रिकेट खेलने का जुनून फिर से सवार हो गया. इसलिए उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और सीम-बॉलिंग ऑलराउंडर के रूप में क्रॉमबेस्ट क्रिकेट क्लब में शामिल हो गए.

लेकिन, दूसरे ही मैच के दौरान उन्हें घुटने में चोट लगी और इसके बाद उन्होंने स्पिनर बनने का मन बना लिया. 18 गज की पिचों पर टेनिस बॉल क्रिकेट में वरुण ने अपने प्रदर्शन से खुद को एक मिस्ट्री स्पिनर के तौर पर तब्दील कर लिया.

 

लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर बिहार महागठबंधन में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. सीटों के बंटवारे को लेकर कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल के बीच खींचतान अभी भी जारी है. कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने सीटों के बंटवारे पर दिल्ली में बैठक बुलाई है. वहीं बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री और विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने आज होने वाली तीन रैलियों को स्थगित कर दिया है.

 

 

तेजस्वी यादव आज सुबह करीब 12 बजे जमुई के गांधी उच्च विद्यालय के झाझा मैदान में एक रैली को संबोधित करने वाले थे. वहीं दोपहर करीब 1.25 बजे बोरा पत्थर मैदान, बांका और 3.10 बजे राजेन्द्र स्टेडियम मैदान, कटिहार में रैली करने वाले थे.प्रचार स्थगित करने को लेकर कहा जा रहा है कि तेजस्वी यादव की तबियत खराब हो गई है इस कारण उन्होंने आज होने वाली रैली को कैंसिल कर दिया है.वहीं राहुल गांधी की बैठक को लेकर कयासों का दौर शुरू हो चुका है. राहुल गांधी की इस बैठक में बिहार प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष मदन मोहन झा, बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल समेत कई अन्य बड़े नेता शामिल हैं.बिहार में सभी सात चरणों में मतदान होंगे. पहले चरण का मतदान 11 अप्रैल को होगा जबकि सातंवें और अंतिम चरण का मतदान 19 मई को होगा. वोटों की गिनती 23 मई को होगी.

 सूत्रों के मुताबिक आरजेडी और कांग्रेस के बीच दरभंगा और सुपौल लोकसभा सीटों के बंटवारे पर पेंच फंसा हुआ है. बता दें कि इस समय कीर्ति आजाद दरभंगा से सांसद हैं.कीर्ति आजाद कांग्रेस पार्टी में दरभंगा से चुनाव लड़ने की शर्त पर कांग्रेस में शामिल हुए थे.संभवतः आज शाम करीब 6 बजे महागठबंधन की होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस भी रद्द हो सकती है. इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में सीटों के एलान के साथ-साथ उम्मीदवारों के नाम की भी घोषणा होने वाली है.

 

 

 

 

1 अप्रैल से लिस्टेरड कंपनियों के शेयरों का ट्रांसफर सिर्फ इलेक्ट्रॉननिक फॉर्म में ही किया जा सकेगा. हालांकि जिन निवेशकों के पास फिजिकल फॉर्म में शेयर हैं, वे इसे रख सकेंगे. भारतीय प्रतिभूति एवं विनमय बोर्ड (सेबी) की ओर से कहा गया, ''निवेशकों के अपने पास शेयरों को फिजिकल रखने पर पाबंदी नहीं होगी. हालांकि, अगर कोई निवेशक फिजिकल रखे शेयरों को ट्रांसफर करना चाहता है तो 1 अप्रैल 2019 के बाद ऐसा शेयरों के डीमैट रूप में होने के बाद ही किया जा सकेगा.शेयरों को अनिवार्य रूप से डीमैट या इलेक्ट्रॉ निक रूप में ट्रांसफर का निर्णय मार्च 2018 में किया गया था. सेबी ने दिसंबर 2018 में इलेक्ट्रॉ निक शेयर ट्रांसफर की समयसीमा बढ़ाकर 1 अप्रैल कर दी थी. अब सेबी ने इस समयसीमा को आगे नहीं बढ़ाने का निर्णय किया गया है. यानि यह नियम 1 अप्रैल 2019 से लागू होगा.  सेबी का कहना है कि डीमैट फॉर्म में शेयरों की खरीद-बिक्री से कंपनियों की शेयरहोल्डिंग का रिकॉर्ड पारदर्शी होगा.  इसके अलावा कंपनियों के स्वामित्व को लेकर विवाद में कमी आएगी.

वहीं सेबी ने सरकार को पंजाब नेशनल बैंक के शेयरधारकों के लिये खुली पेशकश लाने से छूट दे दी.  हालांकि, नियामक ने पूंजी डाले जाने के बाद बैंक में गैर-सार्वजनिक शेयर होल्डिंग में कटौती का निर्देश दिया. बता दें कि पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने फरवरी में केंद्र सरकार की तरफ से आवेदन देकर अधिग्रहण नियमन के तहत जरूरी खुली पेशकश से छूट देने की मांग की थी. सेबी नियमों के तहत अगर किसी इकाई की हिस्सेदारी एक निश्चित सीमा से अधिक हो जाती है तो उसे खुली पेशकश करने की आवश्यकता होती है. पीएनबी में पूंजी डाले जाने के बाद सरकारी हिस्सेदारी 5.19 फीसदी बढ़ेगी और यह 75.41 फीसदी हो जाएगी.

शेयरों का फिजिकल फॉर्म- पहले किसी कंपनी के शेयर खरीदने पर निवेशकों को शेयर प्रमाण पत्र दिया जाता था. इसे ही फिजिकल शेयर कहते हैं, यह प्रक्रिया ऑनलाइन नहीं होती है. लेकिन फिजिकल शेयर को डीमैट फॉर्म में बदलने के लिए निवेशकों को पहले एक डीमैट अकाउंट ओपन करवाना होगा. डीमैट अकाउंट ओपन करवाते वक्तप निवेशक को अपनी जानकारियां देनी होगी. डीमैट अकाउंट ओपन होने के बाद उन्हें हर शेयर के लिए डीमैट रिक्वेस्ट फॉर्म भरना होगा.  इसके बाद उनका फिजिकल शेयर डीमैट अकाउंट में ट्रांसफर होंगे.

 

 

 

Monday, 25 March 2019 00:00

Lead India Epaper

Written by
Lead India Current Issue
April 2019        
       7 April        14 April      21 April     28 April  
March 2019        
      31 March      24 March      17 March        10 March       3 March
February 2019        
     3 February     10 February     17 February     24 February  
January 2019        
     6 January     13 January     20 January     27 January  
December 2018        
    2 December    9 December    16 December    23 December    30 December
November 2018        
    4 November    11 November    18 November    25 November  
October 2019        
    7 October      14 October      21 October     28 October  
September 2019        
    2 September      9 September    16 September     23 September     30 September
August 2019        
    5 August     12 August     19 August     26 August  

 

नई दिल्ली॥ महाराष्ट्र में जन्मी राष्ट्रीय समाज पक्ष पार्टी ने अपने राष्ट्रव्यापी विस्तार के चरण में दिल्ली में दस्तक देते हुए अपना 15वा स्थापना दिवस मनाया।

पार्टी का अधिवेशन दिल्ली के कॉंस्टीट्यूशन क्लब में मनाया गया जिसमें मुख्य अतिथि केन्द्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री, भारत सरकार नितिन गडकरी थे और इस बैठक की अध्यक्षता महाराष्ट्र की महिला एवं बाल विकास मंत्री पंकजा मुंडे ने की। श्री नितिन गडकरी ने राष्ट्रीय समाज पक्ष (आरएसपी) को बधाई देते हुए कहा कि वो आरएसपी के उस मिशन की सराहना करते हैं जिसमें इसके संस्थापक श्री महादेव जानकर जी ने जाति पाति से ऊपर उठ कर  एक राष्ट्र का सपना देखा है। इस अवसर पर उन्होंने महादेव जानकर जी के साथ अपने संस्मरणो को भी सुनाया।

इसके अलावा अन्य अतिथिगण में गिरीराज सिंह, सूक्ष्म,लघु, मध्यम उद्योग राज्य मंत्री, रामदास अठावले, केन्द्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता, राज्य मंत्री, हंसराज अहीर, केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री, सुभाष भाम्बरे, केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री, श्रीमति अनुप्रिया पटेल, केंद्रीय स्वास्थ्य व परिवार कल्याण राज्य मंत्री, स्वामी प्रसाद मौर्य, श्रम सेवा योजन एवं समंवयक केबिनेट मंत्री, उत्तर प्रदेश सरकार, डॉ प्रीतम मुंडे, संसद सदस्य, डॉ विकास महात्मे, संसद सदस्य उपस्थित थे। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फणनवीस अपरिहार्य कारणो से उपस्थित नहीं हो सके।

राष्ट्रीय समाज पक्ष के संस्थापक व कैबिनेट मंत्री महादेव जानकर ने अधिवेशन में कहा कि महाराष्ट्र से निकल कर अब आरएसपी देश भर में काम करने के लिये तैयार है। वर्तमान में महादेव जानकर महाराष्ट्र सरकार में पशुपालन, डेयरी विकास और मत्स्य विकास मंत्री हैं। उन्होंने कहा कि आरएसपी अभी कुछ राज्यों में काम कर रही है लेकिन मैं जब तक चैन से नहीं बैठने वाला जब तक संसद में हमारा प्रतिनिधित्व ना हो जाए।

उन्होंने कहा कि आरएसपी महाराष्ट्र में अभी एनडीए की एलाएंस है लेकिन 2019 के आम चुनाव में उनका लक्ष्य देश के हर राज्य से अपने उम्मीदवार खड़ा करने का है। इसके लिये पहले दिल्ली में अपनी जगह बनाना जरूरी है। हमने दिल्ली में पार्टी को खड़ा करने के लिये प्रदेश अध्यक्ष की कमान श्री सुभाष सिंह को सौंपी है जो एक जाने माने पत्रकार हैं।

दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष का कार्यभार मिलने पर जब श्री सुभाष सिंह से पूछा गया कि पार्टी को आगे बढ़ाने का उनका क्या लक्ष्य है तो उन्होने कहा कि सबसे पहले उनका काम दिल्ली में प्रदेश कमिटी बनाना होगा। कमिटी बन जाने के बाद वो पार्टी के एक राष्ट्र के सपने को साकार करने के लिये जानकर जी द्वारा दिखाई गाइड लाइन का पालन करेंगे। अधिवेशन में आरएसपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अक्कीसागर ने सुभाष सिंह को नियुक्ति पत्र सौंपा।

महिला एवं बाल विकास मंत्री पंकजा मुंडे ने समापन भाषण में कहा कि भाजपा अगर मेरी माँ है तो राष्ट्रीय समाज पक्ष पार्टी मेरी मौसी की तरह है, और कहते है कि माँ से ज्यादा प्यार मौसी से किया जाता है। इसी तरह मेरा प्यार मौसी से अधिक ही है। उन्होंने कहा कि पार्टी के संस्थापक और मेरे भाई महादेव जानकर जी के त्याग की बात करूं तो उन्होंने एक राष्ट्र के सपने के लिये राष्ट्रीय समाज पक्ष की स्थापना की और 27 सालों से अपने घर तक नहीं गये। ऐसा त्याग और ऐसी भावना राजनीति में अब कम देखने को मिल रही है। कॉंस्टीट्यूशन क्लब के पास ही मावलंकर हॉल में चल रहे नेशनल कॉंग्रेस के वार्षिक अधिवेशन पर चुटकी लेते हुए उन्होंने कहा कि बगल वाले हॉल में ही देख लीजिये जहाँ एक और पार्टी का अधिवेशन चल रहा है, उन्हे देख कर ही आपको दोनो पार्टियो के जमीनी स्तर का फर्क समझ आ जाएगा। मेरी कामना है कि राष्टीय समाज पक्ष देश में जल्द ही अपना वर्चस्व बनाए।

पार्टी के वार्षिक अधिवेशन में उत्तर प्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र, हरियाणा, तमिलनाडु से 10 हजार से अधिक कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। इसमें बडी संख्या में उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र के किसान भी शामिल थे।

Page 2 of 17
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…