×

Warning

JUser: :_load: Unable to load user with ID: 558

Email: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

साल 2007 की सबसे चर्चित फिल्म 'तारे जमीं पर' से पॉपुलर हुए एक्टर दर्शील सफारी एक बार फिर बड़े पर्दे पर नजर आएंगे. इस फिल्म का नाम 'क्विकी' है, यह एक टीनऐज लव स्टोरी होगी.

दर्शील की इस नई फिल्‍म का पोस्‍टर ट्रेड एनलिस्‍ट तरण आदर्श ने ट्वीट किया.

फिल्म का निर्देशन करेंगे प्रदीप अतलुरी, जबकि प्रोड्यूस करेंगे टोनी डिसूजा, अमुल विकास मोहन और नितिन उपाध्याय. फिल्म की फीमेल लीड का नाम फिलहाल सामने नहीं आया है.

फिल्म के पोस्टर पर लिखा है, 'बफरिंग, नो सफरिंग. इसके अलावा यह कहानी सच्ची भावनाओं पर आधारित है.' पोस्टर के बैकग्राउण्ड बहुत से शब्द लिखे हुए दिखाई दे रहे हैं.

बता दें, 'तारे जमीं पर' के बाद दर्शील 'बम बम बोले' और 'Zokkomon' जैसी फिल्मों में नजर आए थे. गौरतलब है कि फिल्म 'तारे जमीं पर' के लिए दर्शील को फिल्मफेयर के बेस्ट एक्टर अवॉर्ड से नवाजा गया था.

मुंबई: ऑस्‍ट्रेलिया और भारत 'ए' टीम के बीच शुक्रवार से यहां प्रारंभ होने वाला तीन दिवसीय अभ्‍यास मैच, दोनों ही टीमों के लिए महत्‍वपूर्ण साबित होगा। जहां मेहमान ऑस्‍ट्रेलिया टीम को इस मैच के जरिये भारत के विकेट पर अभ्‍यास करने का मौका मिलेगी, वही  भारत 'ए' टीम के प्रतिभाशाली खिलाड़ी अच्‍छा प्रदर्शन कर टीम इंडिया में प्रवेश का अपना दावा मजबूत करना चाहेंगे। मैच में भारत 'ए' के कप्‍तान हार्दिक पांड्या और कुलदीप यादव पर खास नजर होगी।

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह गगनचुंचबी सिक्सर उड़ाने के लिए जाने जाते है। वर्ल्ड क्रिकेट में युवराज सिंह को गेंद को सीमा रेखा के पार पहुंचाने के लिए जाना जाता है। युवराज ने हाल ही अपने इस बैटिंग मैजिक को फिर साबित किया है।

हालांकि यह कोई अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं था फिर भी युवराज ने इस मैच में लगातार तीन सिक्सर जड़ा जिसके बाद पूरा स्टेडियम तालियों से गूंजने लगा। युवराज सिंह ने सैय्यद मुश्ताक अली टी20 ट्रॉफी के दौरान मध्य क्षेत्र के खिलाफ गए एक मैच में अपनी बल्लेबाजी के अनूठे हुनर का फिर परिचय दिया।

मध्य क्षेत्र ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवर में सात विकेट के नुकसान पर 167 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया। टारगेट का पीछा करते हुए उत्तर क्षेत्र की टीम 20 ओवरों में छह विकेट के नुकसान पर 163 रन ही बना सकी और मैच 4 रनों से हार गई। इस मैच में युवराज ने सिरफ 20 गेंदों में चार छक्के उड़ाते हुए 33 रन ठोके। इनमें से तीन छक्के उन्होंने लगातार तीन गेंदों पर जड़े। 

गौर हो कि अंतरराष्ट्रीय टी20 क्रिकेट में किसी तेज गेंदबाज के एक ओवर में 6 छक्के लगाने का विश्व रिकॉर्ड भी युवी के नाम है, जो उन्होंने 2007 के टी20 विश्व कप में इंग्लैंड के खिलाफ स्टुअर्ट ब्रॉड के ओवर में लगाया था।

भारत दौरे में ऑस्‍ट्रेलियाई टीम की बल्‍लेबाजी का बहुत कुछ दारोमदार डेविड वॉर्नर पर होगा। बाएं हाथ के ओपनर वॉर्नर इस समय बल्‍लेबाजी में जबर्दस्‍त फॉर्म में चल रहे हैं। ऑस्‍ट्रेलियाई टीम के कप्‍तान स्‍टीव स्मिथ भी अपने इस ओपनर पर विश्‍वास जताते हुए कह चुके हैं कि वॉर्नर से उन्‍हें भारत दौरे में बड़ी नहीं, बल्कि बहुत बड़ी पारियों की जरूरत है। ऐसी बड़ी पारी जो करुण नायर ने चेन्‍नई में इंग्‍लैंड के खिलाफ (तिहरा शतक) खेली थी। टीम इंडिया के लिहाज से बात करें तो वॉर्नर को रोकने और उनका विकेट लेने का बहुत कुछ दारोमदार रविचंद्रन अश्विन पर होगा। ऑफ स्पिनर अश्विन इस सीरीज में टीम इंडिया के ट्रंप कार्ड साबित हो सकते हैं। ऐसे में वॉर्नर और अश्विन का सीरीज में मुकाबला रोमांचक हो सकता है।

 

विपक्षी गेंदबाजों पर दबाव बनाना जानते हैं वॉर्नर

ऑस्‍ट्रेलिया के वॉर्नर के लिहाज से बात करें तो उनका प्‍लस प्‍वाइंट ये है कि वे बेहद तेजी से बल्‍लेबाजी करते हैं। उनके क्रीज पर रहने से स्‍कोरबोर्ड 'टैक्‍सी के मीटर' की गति से उछाल मारता है। जाहिर है ऐसा करके वे न सिर्फ टीम को सम्‍मानजनक स्‍कोर पर पहुंचाने में कामयाब होते हैं बल्कि विपक्षी गेंदबाजों पर दबाव बनाकर आगे के बल्‍लेबाजों के लिए राह एक हद तक आसान कर देते हैं। इसके साथ यह बात भी ध्‍यान रखने लायक है कि वॉर्नर इस समय शतक पर शतक लगा रहे हैं। जाहिर है, ऑस्‍ट्रेलियाई टीम को इस दौरे में उन पर काफी भरोसा है।

 

शातिर गेंदबाज की है अश्विन की छवि

दूसरी ओर, अश्विन की छवि एक 'शातिर' गेंदबाज की है। वे अपने वैरिएशंस से विपक्षी बल्‍लेबाजों की कठिन परीक्षा लेते हैं। चेतेश्‍वर पुजारा ने हाल ही में कहा था कि गेंदबाजी करते हुए अश्विन, एक हद तक बल्‍लेबाजों की तरह सोचते हैं। वे अपने मजबूत पक्ष के साथ कमजोर पक्ष को भी ध्‍यान रखते हैं और फिर इसके अनुरूप बल्‍लेबाज को अपनी 'फिरकी' में फंसाते हैं। अश्विन के पक्ष में एक बात यह भी है कि ऑफ स्पिनर, बाएं हाथ के बल्‍लेबाजों के लिए हमेशा मुश्किलें खड़ी करते हैं। वॉर्नर का खब्‍बू बल्‍लेबाज होना, एक तरह से अश्विन के पक्ष में साबित हो सकता है। भारत में स्पिन के अनुकूल विकेटों पर वॉर्नर, अश्विन का किस तरह सामना करते हैं, देखना रोचक होगा। वॉर्नर कई बार ज्‍यादा आक्रमक होने के चक्‍कर में अपना विकेट गंवाते हैं। अश्विन कसी हुई गेंदबाजी करके इस तरह  की रणनीति भी उनके खिलाफ आजमा सकते हैं।

 

वॉर्नर बोले, हमारे बीच होगा जोरदार मुकाबला

डेविड वार्नर ने अश्विन का जवाब देने के लिए अपनी रणनीति तैयार करनी शुरू कर दी है। ऑस्‍ट्रेलिया के इस बल्‍लेबाज ने कहा, ‘अश्विन जैसे गेंदबाज के लिए मेरे दिल में पूरा सम्मान है। वह बल्लेबाज की तरह सोचता है और मुझे उसके खिलाफ अनुशासित होकर खेलना होगा। मैंने इसके लिए रणनीति बनाई है। मुझे उसके मजबूत पक्षों को ध्यान में रखकर उसके खिलाफ बल्लेबाजी करनी होगी। वह मेरे लिए पूरी तरह तैयार होगा और हम दोनों को परिस्थितियों का अच्छी तरह से आकलन करना होगा। यह हम दोनों के लिये जबर्दस्त मुकाबला होगा।’

 

बोले, कोहली के खिलाफ छींटाकशी कर सकती है दोहरा असर

भारत के खिलाफ सीरीज में कप्तान विराट कोहली का जिक्र न हो, हो ही नहीं सकता। वार्नर ने भारत के शीर्ष बल्लेबाज की जमकर तारीफ की। उन्‍होंने कहा‘कोहली सर्वश्रेष्ठ फार्म में है। वह बेहतरीन खिलाड़ी है और वह सभी प्रारूपों में बेजोड़ है और वह पूरे देश की अपेक्षाओं को साथ लेकर चलता है। जो रूट, स्टीव स्मिथ, फाफ डु प्लेसिस और कोहली ऐसे खिलाड़ी जो जिम्मेदारी लेने पर बेहतर खेल दिखाते हैं। विराट बड़ी पारियां खेलने का बहुत अच्छा उदाहरण है।’ वार्नर ने कहा कि ऑस्ट्रेलियाई छींटाकशी (स्‍लेजिंग) विराट के लिये दोनों तरह से काम कर सकती है क्योंकि वह जानते हैं कि इस तरह की परिस्थितियों से कैसे निबटना है। उन्होंने कहा, ‘हमें विरोधी टीम के दिलोदिमाग में घुसने के लिये तरीका निकालना होगा। यह कोई ताना या क्षेत्ररक्षण की सजावट हो सकती है। छींटाकशी या ताना कसना विरोधी को परेशान करने का एक तरीका है।’

Page 7 of 13
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…