Super User

Super User

Email: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

मिशन शक्ति’ पर PM मोदी को चुनाव आयोग से राहत मिलती दिख रही है. इस उपलब्धि की जानकारी पूरे देश को देने के लिए प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय संबोधन किया था, जिसपर कई राजनीतिक दलों ने आपत्ति जताई थी. लेकिन चुनाव आयोग के सूत्रों की मानें तो इसमें कोई खामी नहीं है यानी इसमें आचार संहिता का उल्लंघन होता नहीं दिख रहा है.

नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित किया था, उन्होंने ट्वीट कर खुद इसकी जानकारी दी थी. जिसके बाद उन्होंने मिशन शक्ति की घोषणा करते हुए कहा था कि भारत ने अंतरिक्ष में एक मिसाइल सैटेलाइट को मार गिराया है. प्रधानमंत्री के इसी संबोधन पर विपक्ष की कई पार्टियों ने सवाल उठाए थे.

वामदल सीपीएम ने औपचारिक तौर पर चुनाव आयोग से शिकायत भी की थी. इसके बाद चुनाव आयोग ने उप निर्वाचन आयुक्त डॉ सन्दीप सक्सेना कि अगुआई में पांच सदस्यीय कमेटी का गठन किया था. ये कमेटी पूरे मामले की मीडिया, कानून और आचार संहिता के पहलुओं से जांच कर रही है.

प्रधानमंत्री के 'मिशन शक्ति' संबोधन पर प्रथम दृष्टया चुनाव आयोग को कोई खामी नहीं मिली है. अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने न अपनी पार्टी का जिक्र किया और न ही मतदाताओं से इस घटना के हवाले से अपने पक्ष में वोट देने की अपील की है.

हालांकि चुनाव आयोग की कमेटी जांच कर रही है कि सरकारी माध्यम (दूरदर्शन और आकाशवाणी) का उल्लंघन हुआ है क्या? अभी दोनों संस्थानों से चुनाव आयोग ने जवाब मांगा है. चुनाव आयोग की कमेटी के प्रमुख ने कल उम्मीद जताई थी की कमेटी अपनी रिपोर्ट आज शाम तक तैयार कर लेगी.

 

 

 

 केंद्रीय वित्तमंत्री व भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली ने कांग्रेस पर सीधा हमला बोलते हुए आज कहा कि विपक्षी दल ने राजनीतिक लाभ लेने के लिए हिंदू आतंकवाद बोलकर मनगढ़ंत कहानी बनाई और पूरे हिंदू समाज को कलंकित करने का काम किया.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस को अपने इस कृत्य के लिए पूरे समाज से माफी मांगनी चाहिए. जेटली ने शुक्रवार को बीजेपी मुख्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट मामले में तत्कालीन संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) और कांग्रेस के पास कोई सबूत नहीं था.

लोकसभा चुनाव के जोर के बीच समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट केस में फैसले की कॉपी सार्वजनिक होने के बाद अब इस पर सियासत शुरू हो गई है. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि इस केस में आरोपियों के खिलाफ कोई सबूत नहीं था. सिर्फ हिंदू समाज को कलंकित किया गया. इसकी जिम्मेदार कांग्रेस और यूपीए है. कोई भी समाज इनको माफ नहीं करेगा. मासूमों की जान गई, लेकिन सही लोगों की जांच नहीं की गई.

बता दें, समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट केस में विशेष एनआईए अदालत के न्यायाधीश जगदीप सिंह ने अपने फैसले में कहा, 'मैं विश्वसनीय और स्वीकार्य सबूतों के अभाव में अधूरे रहने वाले इस हिंसा के रूप में किए गए एक नृशंस कृत्य के फैसले को गहरे दर्द और पीड़ा के साथ समाप्त कर रहा हूं.' अभियोजन पक्ष के साक्ष्यों में अभाव रहा. जिसके चलते आतंकवाद का एक कृत्य अनसुलझा रह गया.

मामला

18 फरवरी, 2007 को हरियाणा के पानीपत में भारत-पाकिस्तान के बीच चलने वाली समझौता एक्सप्रेस ट्रेन जब भारतीय सीमा के पास आखिरी स्टेशन यानी अमृतसर के अटारी स्टेशन के रास्ते में थी, तभी उसमें जोरदार ब्लास्ट हुआ था जिसमें 68 लोग मारे गए थे. एनआईए ने जुलाई 2011 में आठ लोगों के खिलाफ आतंकवादी हमले में उनकी कथित भूमिका के लिए आरोप पत्र दायर किया था.

उन आठ आरोपियों में से स्वामी असीमानंद, लोकेश शर्मा, कमल चौहान और राजिंदर चौधरी अदालत में पेश हुए और मुकदमे का सामना किया. बीते दिनों इन चारों आरोपियों को बरी कर दिया गया.

 

आज के वक्त में पूरी दुनिया इंस्टेंट मेसेजिंग ऐप Whatsapp का इस्तेमाल करती है और साथ ही अपने जरूरी और पर्सनल काम इस प्लेटफॉर्म पर करती है।कई बार ऐसा होता है कि कई लोग अपने चैट को पर्सनल रखना चाहते है और साथ ही किसी के साथ सांझा नहीं करते है।इसके लिए Whatsapp ने यूजर्स को चैट को सिक्यूर करने के लिए कई फीचर लॉन्च किए है, जिसमें end-to-end encryption शामिल हैअब व्हाट्सएप अपने यूजर्स की चैट को सुरक्षित रखने के लिए Fingerprint फीचर जल्द ही लॉन्च करने वाली है। आइए जानते है इसके बारे में....WhatsApp अब एंड्रॉयड स्मार्टफोन यूजर्स के लिए भी फिंगरप्रिंट ऑथेन्टिकेशन फीचर लाने की तैयारी कर रहा है. इससे पहले कंपनी ने iOS यूजर्स के लिए ये फीचर जारी कर दिया है.

WABetainfo की एक रिपोर्ट के मुताबिक WhatsApp ने बीटा वर्जन 2.19.83 में फिंगरप्रिंट ऑथेन्टिकेशन का फीचर दिया है. इस अपडेट के बाद यूजर्स अपने वॉट्सऐप को फिंगरप्रिंट स्कैनर से अनलॉक कर पाएंगे. हालांकि अभी भी ज्यादातर एंड्रॉयड स्मार्टफोन में ऐप लॉक करने का फीचर दिया जाता है जिसे फिंगरप्रिंट स्कैनर से अनलॉक किया जा सकता है और लोग इसे वॉट्सऐप के लिए भी यूज करते हैं एंड्रॉयड में दिए जाने वाले वॉट्सऐप के इस नए फीचर को यूजर्स प्राइवेसी टैब में जाकर एनेबल कर सकते हैं. यहां iOS जैसे ही ऑप्शन दिखेंगे, यानी आप ये सेट कर सकते हैं कि एक बार अनलॉक करने के बाद कितने समय तक आपको फिंगरप्रिंट की जरूरत नहीं होगी. इसमें एक मिनट, 10 मिनट और 30 मिनट तक का समय है.

iOS के लिए दिए गए बायोमैट्रिक ऑथेन्टिकेशन वाले वॉट्सऐप के फीचर में सिर्फ टच आईडी ही नहीं, बल्कि फेस अनलॉक का भी ऑप्शन दिया गया है. लेकिन ये साफ नहीं है कि एंड्रॉयड स्मार्टफोन में वॉट्सऐप को फेस से अनलॉक किया जा सकेगा या नहीं. क्योंकि अब ज्यादातर एंड्रॉयड स्मार्टफोन्स में फेस अनलॉक का फीचर मिलता है. हालांकि ये फीचर आईफोन के लेवल का सिक्योर नहीं होता.WhatsApp से ही जुड़ी दूसरी रिपोर्ट की बात करें तो कंपनी ने एंड्रॉयड के लिए डार्क मोड देना शुरू कर दिया है. ये अभी टेस्टिंग के तौर पर है, लेकिन सिर्फ सेटिंग्स में डार्क मोड दिया जा रहा है. उम्मीद है जल्द ही इसका पब्लिक बीटा जारी किया जाएगा और तब आप भी वॉट्सऐप का डार्क मोड यूज कर सकते हैं

 

अक्षय कुमार की फिल्म 'केसरी' kesari  बॉक्स ऑफिस पर लगातार कमाल कर रही है. फिल्म रिलीज के एक ही हफ्ते में 100 करोड़ के करीब पहुंच गई है. फिल्म ने रिलीज के पहले ही दिन से बॉक्स ऑफिस पर कमाल करना शुरू कर दिया था.  कुल 21.06 करोड़ की कमाई के साथ 'केसरी' साल की पहली सबसे बड़ी ओपनिंग करने वाली फिल्म बन गई थी.दूसरे दिन फिल्म kesari  की कमाई में थोड़ी गिरावट दर्ज की गई थी, लेकिन तीसरे और चौथे दिन फिल्म ने फिर रफतार पकड़ी और फिल्म ने पहले वीकेंड में 78.07 करोड़ की शानदार कमाई की. हालांकि, वर्किंग डेज होने के चलते सोमवार को फिल्म की कमाई में भारी गिरावट आई है.

इस फिल्म ने 2019 के चार बड़े रिकॉर्ड भी अपने नाम किया कर लिए हैं-

 

 

पहला रिकॉर्ड- पहले दिन 21.06 करोड़ की कमाई के मामले में ये फिल्म 2019 की सबसे बड़ी फिल्म होने का रिकॉर्ड अपने नाम कर चुकी है.

 

 

दूसरा रिकॉर्ड- इस फिल्म ने तीन दिनों में 50 करोड़ कमाई का आंकड़ा पार करने का रिकॉर्ड भी अपने नाम किया है. इस साल की रिलीज हुई कोई भी फिल्म तीन दिनों में इतना नहीं कमा पाई है.

 

 

तीसरा रिकॉर्ड- केसरी ने चार दिनों में 75 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है. 2019 के लिए ये भी नया रिकॉर्ड है.

 

 

चौथा रिकॉर्ड- इस फिल्म ने ओपेनिंग वीकेंड में सबसे ज्यादा कमाई का रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिया है. फिल्म गुरुवार को रिलीज हुई. चार दिनों के ओपेनिंग वीकेंड में केसरी ने 78.07 करोड़ कर चुकी है.

क्या है फिल्म की कहानी?

 

 

ये फिल्म वर्ष 1897 के ऐतिहासिक सारागढ़ी के युद्ध पर आधारित है. 'केसरी' को भारतीय इतिहास ही नहीं बल्कि दुनिया की सबसे बड़ी लड़ाई माना जाता है. इसमें सिख सैनिकों ने सारागढ़ी किला बचाने के लिए पठानों से अपनी आखिरी सांस तक लड़ाई लड़ी थी. इस युद्ध में 36 सिख रेजिमेंट के 21 जवानों ने 10 हजार अफगान सैनिकों को धूल चटा दी थी.

 

 

अक्षय कुमार की फिल्म 'केसरी' दर्शकों के दिलों पर राज कर रही है और फैंस इसकी तारीफ करते नहीं थक रहे. यदि आपने भी अभी तक फिल्म नहीं देखी है और देखने पर विचार कर रहे हैं तो हम आपको बता रहे हैं कि आखिर क्यों आपको इस फिल्म को बिल्कुल भी मिस नहीं करना चाहिए.

 

 

 

 

 

 

 

 

'केसरी' देखने से पहले जानिए सारागढ़ी युद्ध की असली कहानी, जब 10 हजार अफगानी सैनिकों से भिड़े थे 21 सिख

 

 

 

Page 6 of 47
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…