Super User

Super User

Email: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

ये दास्तान बिहार के छोटे से गांव मकहर की है. करीब 68 साल पहले एक खेतीहर मजदूर रामजीत राम मांझी भी इसी गांव में रहा करते थे.

मुसहर जाति से संबंध रखने वाले रामजीत मांझी की जिंदगी भी उसके मुसहर समाज से जुदा नहीं थी.

मिट्टी की दीवारों से बनी घास फूस के छप्पर वाली रामजीत की ऐसी ही कोठऱी सुअरों के लिए निवास स्थान का काम भी करती थी.

दरअसल बिहार के मगध इलाके में मुसहर समुदाय की जिंदगी इस कदर बदहाल रही है कि जिसकी कल्पना भी आपके रोंगटे खड़े करने के लिए काफी है.

खलिहान में मजदूरी करने वाले इस मुसहरों को भुइया कह कर भी पुकारा जाता है.

लेकिन चूहों को उनके बिल से पकड़ कर उनका मांस खाने की वजह से इस समाज का नाम मुसहर पड़ा है.

शराब और ताड़ी की दुर्गंध से महकते ऐसी ही मुसहर टोली में करीब 68 साल पहले एक बंधुआ मजदूर के घर एक बच्चे का जन्म हुआ था.

खेतों में बंधुआ मजदूरी करने वाला वह बच्चा वक्त को जीत कर आज बन गया है.

मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी. लेकिन बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने जब से पद संभाला है वह अपने बयानों को लेकर अक्सर विवादों में घिरते रहे हैं.

 जीतन राम मांझी को मुख्यमंत्री बने सात महीने गुजर चुके हैं लेकिन इन सात महीनों में वो अपने काम की बजाए अपने बयानों को लेकर ज्यादा चर्चा में रहे हैं.

जीतन राम मांझी के ऐसे बयान जहां आए दिन नए विवाद खड़े करते रहे हैं वहीं दूसरी तरफ उनकी और उनके समुदाय की दर्दभऱी कहानी भी बयान करते रहे हैं.

 चूहा मारके खाना खराब बात है क्या..

 बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा कि झोला छाप डॉ और औझा के चक्कर में न पड़कर डॉक्टर के पास जाओ..हॉस्पिटल में कोई दिक्कत है डॉक्टर नहीं है.

दवा नहीं है उसकी सूचना जिलाधिकारी को दो. नहीं तो सिर्फ एक लेटर लिख दो मुख्यमंत्री के नाम पर जिस डॉक्टर का नाम लिखोगे उसे हम सजा देंगे.

हमने कई लोगों को घर बैठाया है.सजा दी है. जीतन मांझी गरीबों के साथ है. हाथ कटा देंगे.

 पिछले कुछ दिनों से अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाले बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की जद में अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी आ चुके है.

बुधवार को नरेंद्र मोदी के संसंदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंचे मांझी ने मोदी के स्वच्छ भारत अभियान पर जम कर कटाक्ष किया.

 अपने विवादित बयानों को लेकर जीतन राम मांझी को विपक्षी दल ही नहीं अपनी ही पार्टी जेडीयू में भी विरोध का सामना करना पड़ा है.

लेकिन वो ना तो रुकने को तैयार है और ना ही किसी के आगे झुकने के लिए तैयार है.

 मुख्यमंत्री ने कहा कि मांझी टूट जाएगा झकेगा नहीं. दरअसल पिछले लोकसभा चुनाव में जनता दल यूनाइटेड का बिहार में प्रदर्शन बेहद खराब रहा था.

उसे सिर्फ दो ही लोकसभा सीटें जीतने में कामयाबी मिली थी. जेडीयू की इस हार की जिम्मेदारी लेते हुए मुख्यंत्री नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया.

था लेकिन सत्ता पर अपनी पकड़ बनाए रखने के लिए उन्होंने अपने सबसे विश्वस्त और करीबी रहे जीतन राम मांझी को बिहार का मुख्यमंत्री बनवा दिया था.

 जीतन राम मांझी मई 2014 में बिहार के मुख्यमंत्री बनाए गए थे.

लेकिन एक मुख्यमंत्री के तौर पर वह अपने काम से ज्यादा अपने बयानों को लेकर ज्यादा चर्चा में रहे हैं.

जीतन राम मांझी अपने विवादित बयानों की वजह से कई बार नीतीश कुमार के लिए भी मुसीबत बनते नजर आए हैं.

और यही वजह है कि विपक्षी दल ही नहीं बल्कि खुद उनकी पार्टी जेडीयू में भी मांझी के खिलाफ विरोध की तलवारें खिंचती रही हैं.

 जीतन राम मांझी ने कहा कि भ्रष्टाचार बहुत बढ़ गया है नीतीश कुमार ने काम किया लेकिन करप्शन दूर नही हुआ. शरद यादव ने कहा कि वह खुद भी जिम्मेदार है.

 वह खुद मंत्रीमंडल में थे तो उनकी जिम्मेदारी बराबर की है उनको उस समय इस बात को कैबिनेट के भीतर उठाना चाहिए था.

मैं सोचता हूं कि ये मर्यादा के भीतर की बात नहीं है.

 मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा कि अगर आप हमे विशेष राज्य का दर्जा दे देते है तो जीतन मांझी आपका(मोदी) समर्थक हो जाएगा.

 विवादित बयानों पर जेडीयू विधायक ने कहा कि पागल है. उसको सीएम बनाकर गलती कर दी. जबसे बना है कैसे बयान देता है.

बयान का जनता पर कुछ असर नही होता है लोग बोलते है पागल है इसे जल्दी से हटा दो.

 जेडीयू की तरफ से अस्थायी इंतजाम के तौर पर मुख्यमंत्री बनाए गए.

मांझी की बयानबाजी को दरअसल उनकी खास रणनीति और राजनीतिक महत्वकांक्षा के तौर पर देखा जा रहा है. माना जा रहा है.

कि जीतन राम मांझी अपने बयानों से ना सिर्फ विवाद खड़ा करना चाहते हैं बल्कि उन विवादों को हवा देना भी चाहते हैं.

ताकि बिहार में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में इसका राजनीतिक लाभ उठाया सके.

 जीतन राम मांझी के विवादित बयानों को लेकर राजनीति के जानकार ये भी वजह मानते है.

कि वह एक कमजोर मुख्यमंत्री की छवि से बाहर निकलना चाहते है और साथ ही अपनी पार्टी जेडीयू के लिए आने वाले वक्त में भी एक मजबूरी बने रहना चाहते हैं.

 राजनीतिक विश्लेषक अरविंद मोहन ने कहा कि  कुलमिलाकर उनके बयान उनकी राजनीति को पीते गए है.

वो खुद को मजबूत करना चाहते है जितना वो कमजोर होकर सीएम बने है वह स्थिति हटाना चाहते है.

वह एक मजबूरी बनाना चाहते है कि कल को नितीश कुमार और लालू एक पार्टी में आते है तो वही कनसेस बनके रहे.

दो तीन तरह की राजनीति है एक तो यही कि इन दोनों के बीच कोई कॉमन आदमी आना चाहिए. जो वह खुद बनना चाहते हैं.

दोनो आपस में एक-दूसरे को नेता माने न माने वह खुद नेता बन जाना चाहते है. तीसरा टॉरगेट भी लोग बोल रहे हैं.

लेकिन मुझे भरोसा नहीं हो रहा है कि अगर वह वोट को अपने साथ कर पाते है तो कलको बीजेपी में कोई अच्छा सौदा करके वह उस तरफ भी जा सकते हैं.

 आखिर कौन है जीतन राम मांझी और क्यों लगातार विवाद पैदा करने वाले बयान दे रहे हैं. मांझी के बयानों के पीछे छिपे असल मकसद क्या है.

 साफ है कि मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी पहले बयान देते हैं और जब उनके बयान पर हंगामा खड़ा होता है तो वह फौरन ही उस पर अपनी सफाई भी पेश कर देते हैं.

मुख्यमंत्री मांझी की क्या है ये बयाननीति? क्या इसमें छुपी है चुनाव से जुड़ी कोई रणनीति.

मांझी के इस चुनावी गणित की गहराई में भी हम उतरेंगे लेकिन पहले कहानी उस मुसहर समुदाय की जिससे मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की जड़े जुड़ी हुई हैं.

 बिहार के मगध इलाके में मुसहरों की एक बस्ती हैं. जाहिर है मुसहर समुदाय आज भी अभिशप्त जिंदगी जीने को मजबूर है.

कुछ गज जमीन पर बने जर्जर मकान और गंदगी के बीच सांसे लेती जिंदगी दशकों से मुसहर समुदाय का नसीब रही है.

सितुहा, घोंघा और चूहे पकड़ कर जिंदगी की नैया खेते –खेते थक हार चुका मुसहर समुदाय आज भी समाज के हाशिये पर खड़ा है.

खास बात ये है कि मुसहरों की जिंदगी की बात सुअर, शराब और ताड़ी के बिना अधूरी ही रहती है क्योंकि ये तीनों ही चीजें इनकी जिंदगी में खास अहमियत रखते हैं.

गंदगी में रहने और पलने वाले ये सुअर ही मुसहर समुदाय के लिए विपत्ति के वक्त सबसे बड़ा आर्थिक सहारा बनते हैं.

खेतों में मजदूरी करके पेट पालने वाले मुसहर समुदाय के लिए चूहे भी जिंदगी का सबसे बड़ा सहारा रहे हैं.

और यही वजह है कि चूहों को पकड़ने औऱ उनके बिलों से अनाज निकालने में मुसहरों को महारत हासिल है.

 राजनीतिक विश्लेषक अरविंद मोहन ने कहा कि  एक बिल में से कम से कम 8-10 चूहे निकलते है. और अलग-2 रास्ता बनाते है.

तो ये लोग एक तरफ बंद करके खुदाई करते है उसमे भी इनको अन्दाजा हो जाता है कि किसमे वो रहते हैं किसमें अनाज है.

तो अगर 15 चूहे मिल गए तो उस दिन का खाना हो गया. और 15 चूहे वाला बिल मिल गए तो 15-20-30 किलो गेहूं का इन्तजाम हो गया.

तो फिर खेद को खोदना ज्यादा हो जाता है काफी गहराई तक जाता है . 5-6-8 फीट तक जाता है. ये चीजें बहुत कॉमन है.

जैसे अनाज कटता है वैसे ही ये लोग लग जाते है. बच्चे खोदने में साथ दे रहे है. 2-3-4 आदमी का ग्रुप होता है.

 

 

 

Page 46 of 46
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…