पत्रकारिता में तरूणा एस. गौड़ को मिली डॉक्टरेट की उपाधि
Featured

12 March 2020 Author :  

महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय के अष्टम यानी आठवे दीक्षांत समारोह में मध्य प्रदेश के राज्यपाल एवं कुलाधिपति माननीय लालजी टंडन ने शोध छात्रो एवं छात्राओं को शोध उपाधि प्रदान की| इस अवसर पर राज्य के शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी, राष्ट्रीय प्रत्यायन एवं मूल्यांकन परिषद(नैक) बैंगलौर के चेयरमैन पद्मश्री प्रोफेसर वीरेंद्र सिंह चौहान, विश्वविद्यालय के कुलपति नरेशचन्द्र गौतम, शिक्षकगण और शोधार्थियों के अभिभावक मौजूद थे|

दीक्षांत समारोह में बिजनौर जिले से पत्रकारिता में शोध करने वाले पहली महिला तरूणा एस. गौड़ को पी-एच.डी. में शोध उपाधि प्रदान की गयी| डॉक्टर तरूणा एस. गौड़ ने पत्रकारिता में लघु एवं मध्यम समाचार पत्रों के प्रबंधन और प्रसार विषय पर शोध किया| डॉक्टर तरूणा एस. गौड़ लघु एवं मध्यम समाचार पत्रों के लिए काम करने वाली देश एकमात्र एसोसिएशन “लीड इंडिया पब्लिशर्स एसोसिएशन- लीपा” की राष्ट्रीय महासचिव हैं| पत्रकारिता में उनका 17 सालो का अनुभव रहा जिसने उन्हें लघु पत्रों की वर्तमान दयनीय दशा पर शोध करने के लिए प्रेरित किया| 

जब डिजिटल न्यूज़ यानी यूट्यूब और वाट्सएप के जमाने में प्रिंट मीडिया अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा है ऐसे में डॉक्टर तरूणा एस. गौड़ का यह शोध विषय प्रासंगिक भी है और समाधानपरक भी| शोध विषय “लघु एवं मध्यम समाचारपत्रों के प्रबंधन एवं प्रसार व्यवस्था का एक अध्ययन, बुंदेलखंड के समाचारपत्रों के विशेष संदर्भ में के माध्यम से डॉक्टर तरूणा एस. गौड़ ने लघु पत्रों के लिए आज के प्रतिस्पर्धात्मक युग में सर्वाइव करने का एक मॉडल भी प्रस्तुत किया है जो इस शोध को पत्रकारिता एवं समाज उपयोगी बनाता है|

महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय की स्थापना 12 फरवरी1991 में की गयी थी जिसमे नानाजी देशमुख ने विशेष भूमिका निभाई थी| यह विश्वविद्यालय अपने आप में अनूठा है, जो ग्रामीण अंचल में ग्रामीण छात्रो को उनके परिवेश में शिक्षा के क्षेत्र में कीर्तीमान स्थापित करने के अवसर दे रहा है|

महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय यूजीसी में ए-ग्रेड प्राप्त विश्वविद्यालय है| यहाँ हुए शोध कार्य यूजीसी के कड़े मानक जैसे प्लेजेरिज्म टेस्ट से गुजरते हैं जो शोध कार्यो की मौलिकता प्रमाणित करते हैं| विश्वविद्यालय प्रति दीक्षांत में100 से अधिक छात्रो को शोध उपाधि प्रदान करता है| इस दीक्षांत समारोह में कला, कृषि एवं विज्ञान के 42 विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक, 121 शोधार्थियों को पीएचडी उपाधि एवं स्नातक-परास्नातक स्तर के विद्यार्थियों को डिग्री प्रदान की। समारोह में पूर्व छात्रो, जिन्होंने उल्लेखनीय स्थान बनाया, उन्हें भी प्रशस्तिपत्र प्रदान किये गए इनमे चित्रकूट के वर्तमान विधायक इंजीनियर नीलांशु चतुर्वेदी, यूपीपीएससी की सहायक प्राध्यापक अनामिका दुबे, इतिहास परीक्षा में प्रथम स्थान पाने व इं. शुभम मिश्रा द्वारा सॉफ्टवेयर स्टार्टअप के सफल क्रियांवयन के लिए सार्वजनिक रूप से सम्मानित किया।   

 

246 Views
Super User
Login to post comments
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…